Thursday, November 6, 2008

Arzz Kiya hai....

जिंदगी की राह पर चल पड़े थे मंजिल की ओर,
हर मंजिल के बाद, मंजिल मंजिल न रही,
हम हम न रहे

***********************************************

हम तो चले थे बांटने लोगों में प्यार,
लोग हमें प्यार की कीमत पूंछने लगे

**********************************************

1 comment: